Home जालौन सरकारी सेवा में आना और सेवानिवृत्त होना सतत प्रक्रियाःमिश्रा
जालौन - July 31, 2020

सरकारी सेवा में आना और सेवानिवृत्त होना सतत प्रक्रियाःमिश्रा

अनुराग श्रीवास्तव के साथ बबलू सिंह सेंगर महिया खास
जालौन (उरई)। सरकारी सेवा में जो व्यक्ति आते हैं उन्हें सेवानिवृत्त होना ही पड़ता है। लेकिन व्यवहारिक जीवन में पुलिस कर्मी कभी भी सेवानिवृत्त नहीं होतें। वे हमेशा समाज का मार्गदर्शन करते रहते हैं। यह बात कोतवाली प्रभारी ने एसआई त्रिलोकी नाथ मिश्र की सेवानिवृत्ति पर कोतवाली में आयोजित एक सादा समारोह में कही। इस दौरान सेवानिवृत्त एसआई को उपहार व श्रीफल देकर सम्मानित किया गया।
कोतवाली में तैनात रहे एसआई त्रिलोकीनाथ मिश्र शुक्रवार को सेवानिवृत्त हुए। उनकी सेवानिवृत्ति पर कोतवाली में आयोजित एक सादा समारोह में कोतवाल रमेशचंद्र मिश्र ने कहा कि पुलिस का सेवा कार्य 24 घंटे का होता है। जो काफी काफी कठिनाई भरा होता है। पुलिस की नौकरी में व्यक्ति अपने व्यक्तिगत, समाज एवं संबंधों से लगभग कट सा जाता है। उसे इनमें सम्मिलित और हिस्सा लेने का वक्त ही नहीं मिल पाता है। सेवानिवृत्त के बाद अब वह अपना अधिक से अधिक समय अपने परिवार व समाज और संबंधियों के बीच व्यतीत कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी सेवा में जो व्यक्ति आते हैं उन्हें सेवानिवृत्त होना ही पड़ता है। लेकिन व्यवहारिक जीवन में पुलिस कर्मी कभी भी सेवानिवृत्त नहीं होतें। वे हमेशा समाज का मार्गदर्शन करते रहते हैं। वहीं, सेवानिवृत्त हुए एसआई ने भी सभी साथियों के सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। इस मौके पर एसएसआई आंनद कुमार, चैकी प्रभारी संजीव दीक्षित, एसआई गंगासागर, देशराज, सचिन शुक्ला, रामचंद्र, रामनरेश समेत समस्त कोतवाली स्टाॅफ उपस्थित रहा।
फोटो परिचय—
सेवानिवृत्त एसआई को सम्मानित करते इष्टमित्र।

Check Also

नई सोच और बेहतर परंपराओं को अपना रहे नई पीढ़ी के किशोर

0 कृष्णा ने अपने जन्म दिन पर गौवंश संरक्षण की दिशा में दिया संदेश सत्येन्द्र सिंह राजावत उ…