News India Express
कालपी

इंडस्ट्री एरिया कालपी में निर्माणाधीन 2 करोड़ 34 लाख के कार्य हो रहे मानक विहीन

0 उ0प्र0 हाथ कागज निर्माता समिति के अध्यक्ष पं नरेन्द्र कुमार तिवारी ने शासन-प्रशासन को पत्र लिखकर टीएसी एजेन्सी से निष्पक्ष जांच कराने की मांग की
0 उ0प्र सरकार के यशस्वी मुख्यमंत्री जी की जन सुनवाई पोर्टल पर की गई शिकायत उसी विभाग के अधिकारी को मिलने से शिकायत चढ़ी भृष्टाचार की भेंट

पवन दीप निषाद
कालपी (जालौन)। इंडस्ट्री एरिया कालपी जनपद जालौन में लोक निर्माण विभाग द्वारा 2 करोड़ 34 लाख रुपये से कराये जा रहे निर्माण कार्य में हो रहें घोटाले के संबंध में उ0प्र0 हाथ कागज निर्माता समिति के अध्यक्ष पं नरेन्द्र कुमार तिवारी उच्च स्तरीय टीएसी से जांच कराने की मांग करते हुये शासन – प्रशासन को पत्र भेजे है।
संगठन के अध्यक्ष नरेन्द्र तिवारी ने प्रेस को जानकारी देते हुये बताया कि संगठन ने दिनांक 19 जनवरी 2021 को उत्तर प्रदेश सरकार के यशस्वी मुख्यमंत्री जी की जन सुनवाई पोर्टल पर शिकायत की थी उक्त शिकायत की जांच उसी अधिकारी को दे दी गई जो उक्त घोटाले में शामिल है अधिशासी अभियंता ने पारदर्शी जांच न करके ठेकेदार के पक्ष में रिपोर्ट लगाकर दो करोड़ की जांच का निस्तारण कर दिया जो गलत एवं विधि विपरीत है। उनका कहना है कि 50 प्रतिशत से अधिक मौरम यमुना नदी की प्रयोग में लाई गई है जबकि स्टीमेट में मुहाना घाट की उत्तम मौरम लगाने का प्रावधान है जिसके रेट यमुना नदी के मौरम से कई गुना अधिक है लेकिन सस्ती मौरम लगाकर जंहा एक ओर क्वालिटी खराब की गई है वही ठेकेदार ने सरकार को लाखों रुपये का चूना लगा दिया है खराब मौरम से निर्माण कार्य की गुणवत्ता बहुत ही खराब हो गई। इतना ही नही उक्त निर्माण कार्य में प्रयोग हो रही ईंटा सबसे खराब क्वालिटी की है उक्त ईंटा के प्रयोग होने से बाउंड्री वाल में लग रही ईंटा कमजोर होने के कारण उक्त बाउंड्री वाल बहुत जल्दी टूट कर गिर जायेगी स्टीमेट के अनुसार प्रथम श्रेणी की बहुत अच्छी ईंटा का प्रावधान किया गया है। लेकिन ठेकेदार ने अच्छी ईंटा न लगाकर दो नंबर की ईटा लगाई है जो स्टीमेट के अनुसार 100 प्रतिशत गलत है। उपरोक्त निर्माण कार्य में कच्ची गिट्टी का प्रायोग किया जा रहा है जबकि स्टीमेट में गोरामछिया की गिट्टी लगाने का प्रावधान है गोरामछिया की गिट्टी सबसे अच्छी क्वालिटी की मानी जाती है उसी के अनुसार सरकार ने रेट भी दिये है लेकिन पीडब्लूडी के अधिकारियों की सहमत से खराब गिट्टी लगाकर लाखों रुपये के डिफरेंस का घोटाला किया गया है। जिसकी उच्च स्तरीय जांच होना आवश्यक है। उपरोक्त निर्माण कार्य में सबसे घटिया किस्म का जंग लगी सरिया प्रायोग होने से निर्माण कार्य की गुणवक्ता पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है वर्तमान में प्रायोग हो रही सरिया बहुत कमजोर क्वालिटी की होने के कारण निर्माण कार्य की गुणवक्ता 70 से 80 प्रतिशत घट गई है।
शासन प्रशासन को भेजे लिखित पत्र में संगठन ने अनुरोध किया है कि इंडस्ट्री ऐरिया कालपी में 2 करोड़ 34 लाख रुपये जो उ0प्र0 शासन का धन है से लोक निर्माण विभाग द्वारा कराया जा रहा निर्माण कार्य की गुणवक्ता की उच्च स्तरीय जांच किसी उच्च स्तरीय जांच एजेंसी टीएसी से कराने की कृपा करें जिससे सरकार द्वारा दी गई धनराशि का घोटाला करने वालों से सरकारी धन के घोटाले की राशि की बसूली ठेकेदार से तथा आधिकारियों से की जा सके। जांच एजेन्सी जांच करते समय शिकायतकर्ता को भी मौके पर बुला ले तो निश्चित रुप से जांच पारदर्शी ढंग से होगी जिससे घोटाले की पोल खुल जायेगी और दूध का दूध पानी का पानी हो जावेगा।
फोटो परिचय –

Related posts

यमुना मईया में श्रृदालु भक्तों ने लगाई डुबकी, किये धार्मिक मंदिर के दर्शन

newsindiaexpress

पत्रकारों ने मृतक पत्रकार के परिवार को आर्थिक सहायता दिए जाने की उठाई मांग

newsindiaexpress

उपजिलाधिकारी के समक्ष गल्ला मंडी मे अनाज की लगी बोली

newsindiaexpress