Home उरई बसपा सात, भाजपा छह और चार पर सिमटी समाजवादी पार्टी

बसपा सात, भाजपा छह और चार पर सिमटी समाजवादी पार्टी

16
0

0 आधा दर्जन सीटों पर स्वतंत्र प्रत्याशियों ने करायी जीत दर्ज

सत्येन्द्र सिंह राजावत
उरई(जालौन)। जिला पंचायत क्षेत्र के सभी 25 वार्डो के परिणाम घोषित कर दिए गए है। जिसमें बहुजन समाज पार्टी 7, भारतीय जनता पार्टी को 6 और समाजवादी पार्टी को 4 और कांग्रेस एक, बीपी जनता दल एक तथा 6 सीटों पर निर्दलियों ने बाजी मारी है। हालांकि सहाव, खकसीस और चतेला सीटों को धोखाधड़ी एवं सत्ता का दबाव दिखाकर हथियाने का आरोप बहुजन समाज पार्टी ने भाजपा पर लगाया है।
जिला पंचायत सदस्य पद के लिए हुए चुनाव में सभी 25 वार्डो के विजयी उम्मीदवारों की घोषणा कर दी गयी है। बहुजन समाज पार्टी ने सात सीटों पर सफलता हासिल की है। बसपा ने जिला पंचायत क्षेत्र ऐर से कैलाश राजपूत, गढ़र से मनोज याज्ञिक, दिरावटी से मीनाक्षी देवी पटेल, मई प्रियंका गौतम, जगम्मनपुर से श्रीमती ज्योति देवी, अकबरपुर से अतर सिंह पाल और महेबा से श्रीमती मातावती ने चुनाव में सफलता हासिल की है। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी जिला पंचायत क्षेत्र रेढ़र से चुनाव जीत गये है। इसके अलावा परासन से रणविजय सिंह, चतेला से ज्ञानसिंह, पहाड़गांव से पूनम, खकसीस से अम्रता, सहाव से पुष्पेन्द्र सिंह सेंगर ने बाजी मारी है। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष शिशुपाल सिंह यादव का कब्जा लगातार पांचवी बार डकोर जिला पंचायत सीट पर रहा। उनकी पत्नी श्रीमती उमा देवी ने इस सीट पर जीत हासिल की है। जबकि जैसारी कला से अर्चना यादव, सिकरीराजा से संजू कठेरिया, चुर्खी से श्रीमती निशा देवी, गोहन से देवेन्द्र कुमार सोनी को सफलता मिली है। कैलिया बुजुर्ग सीट से कांग्रेस की अधिकृत प्रत्याशी उर्मिला सोनकर ने जीत हासिल की है। जबकि बीपी जनता दल के टिकट पर हरौली से चुनाव लड़ी मालती ने सपा,बसपा, भाजपा के प्रत्याशियों को चित कर दिया। इस बार निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी अच्छीखासी सफलता हासिल की है उनमें बबीना से निर्दोष यादव, शहजादपुरा से रामेन्द्र त्रिपाठी, वावली से रेखा प्रजापति, सिरसा कलार से अनिल कुमार, कुठौंद से अनुरूद्ध शामिल है। हालांकि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी पर सहाव, खकसीस एवं चतेला में सत्ता के दबाव में गड़बड़ी करने का आरोप लगाया है। बसपा के प्रवक्ता संजय राय का आरोप है कि सहाव सीट पर पहले 800 वोटों से बसपा प्रत्याशी ब्रजमोहन दीक्षित चुनाव जीत गये थे। लेकिन बाद में उन्हे करीब 56 वोटों से चुनाव हरा दिया गया। इसी तरह खकसीस सीट पर भी बसपा प्रत्याशी को हराकर भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी को विजयी घोषित कर प्रमाण पत्र दे दिया। इसी तरह चतेला सीट पर निर्दलीय पिंकी गौतम आगे थी बाद में भाजपा नेताओं के दबाव के चलते ज्ञानसिंह को विजयी घोषित कर दिया गया। भाजपा ने कांग्रेस प्रत्याशी उर्मिला सोनकर को भी प्रमाण पत्र देने से रोक दिया था लेकिन रात के समय ही कांग्रेसी नेताओं के द्वारा अधिकारियों की दरवाजा खटखटाने के बाद ही उर्मिला को प्रमाण पत्र मिल पाया है।